Monday, March 16, 2015

कस्टम-फिट का समय और बुद्ध

--------------------------------------------------------
वो बड़ी-बड़ी आँखों वाली लड़की थी
हाँ, बड़े सपनों वाली नहीं,
बड़ी आँखों वाली
उसे तलाश थी अपनी,
वो देखना चाहती थी खुद को,
उससे ज़ियादा,
जितना उसका आइना उसे दिखता था
सो, अपनी उम्र के अलग अलग पड़ाव पर
उसने चुने कई अलग अलग आईने
जिनमें कई जोड़ी आँखें शामिल थीं...
माँ, बाबा, भाई, बहन, दोस्त,
समाज, तीन प्रेमी
और-तो-और घुंगराले बालों वाले उस अजनबी की भी
जिससे उसका बस अजनबियत का रिश्ता था

पर हर बार उसने यही पाया कि
हर रिश्ते ने क़तर दिया था उसका अक्स
अपने आमाप के अनुसार
रिश्ते अपने समय से अछूते जो नहीं होते
और ये मेड-तो-मेज़र और कस्टम-फिट का समय था
खैर, अब वो थक गयी है है अपने आधे अधूरे अक्स देख के
सो, अब मूँद ली हैं उसने आखें,
सी लिए हैं होठ
और इक कवच क तौर पर
सजा ली है एक अधूरी मुस्कान
काश! वो अपने कान भी बंद कर पाती
जो अब आलोचनाओं, और विलापों के बोझ से
दिन-ब-दिन लम्बे हुए जाते हैं
सचमुच, बुद्ध होना आसन नहीं!
--------------------------------------------------------

1 comment:

Cheap FIFA 16 Coins said...

Have time,

I will come to look at this issue and look forward to!


Here is my Favorites FIFA 16 Coins will sent to you at http://fifa16.vipmmobank.com