Sunday, July 18, 2010

रिश्वतखोर खला की परतें ...

जानती हूँ
कुसूर तेरा नहीं खुदाया
जो दुआओं में मेरी
असर ना हुआ

ये खला की सात परतें
जो दरम्यान खड़ी है ना,
...रिश्वतखोर बहुत हैं !

खा जाती होंगी
तुझ तक पहुँचने से पहले ही 
थोड़े अलफ़ाज़, थोड़ी शिकायतें,
और ढेर सारी मिन्नतें
जो रोज़ भेजती हूँ तुझे
धूप, अर्घ्य और नवैध के साथ...

ठीक वैसे ही
जैसे कुतर जाती हैं किनारे
हर रोज़ आसमान में टंगे
उस गोल चाँद के
जब वह
सब सय्यारों को टापता हुआ
मेरी खिड़की से कूद
मेरी कोठरी के फर्श पर उतरता है....

बेचारा ! चौकोर ही बचा होता है तब....|

रिश्वतखोर बहुत हैं ये खला की सात परतें ...!

26 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

सय्यारों...का मतलब नहीं समझ आया....



खा जाती होंगी
तुझ तक पहुँचने से पहले ही
थोड़े अलफ़ाज़, थोड़ी शिकायतें,
और ढेर सारी मिन्नतें

बहुत सुन्दर पंक्तियाँ.....aur को और कर दो....

खूबसूरत नज़्म

Sonal Rastogi said...

बहुत प्यारी नज़्म
रिश्वतखोर बहुत हैं ये खला की सात परतें ...!
ख़ास पसंद आई

प्रवीण पाण्डेय said...

संवेदनात्मक अभिव्यक्ति थी।

सम्वेदना के स्वर said...

बहुत ख़ूब!! नायाब !!! आपने तो इंसानी दुनिया के मिडलमेन को इंसान और भगवान के बीच खड़ा कर दियाख़ला की सात परतें बनाकर... अनोखा प्रयोग... और बेचारा कुतरा हुआ चाँद औंधे मुँह कोठरी में पड़ा था... स्वप्निल की तरह मैं क़तल..क़तल... क़तल नहीं बोल सकता… इसलिए बहुत सुंदर कहुँगा!!

Avinash Chandra said...

Someone is BACK... :)
warna laga July me koi entry hi nahi aayegi...to sabse pahle shukriyaa..


जानती हूँ
कुसूर तेरा नहीं खुदाया
जो दुआओं में मेरी
असर ना हुआ

ये खला की सात परतें
जो दरम्यान खड़ी है ना,
...रिश्वतखोर बहुत हैं !


rishwatkhor khalaa... uff, inta to us khuda ne bhi na socha hoga shayad...achchha kiya jo aapne bataya...


खा जाती होंगी
तुझ तक पहुँचने से पहले ही
थोड़े अलफ़ाज़, थोड़ी शिकायतें,
और ढेर सारी मिन्नतें
जो रोज़ भेजती हूँ तुझे
धूप, अर्घ्य और नवैध के साथ...

haan, aise hi to bheji jaati hain minnate, muraadein...

ठीक वैसे ही
जैसे कुतर जाती हैं किनारे
हर रोज़ आसमान में टंगे
उस गोल चाँद के

ye to pata hi na tha hame...


जब वह
सब सय्यारों को टापता हुआ
मेरी खिड़की से कूद
मेरी कोठरी के फर्श पर उतरता है....



"सब सय्यारों को टापता हुआ"
kamaalllllllll... aisi kalpana ki chaand bhi sun le to tappe maarne lage.

ispe to do din meri kalam sirf geet gaye...likhne ki himmat nahi ab 2-3 din meri.


बेचारा ! चौकोर ही बचा होता है तब....|

arrrrrrrrr!!!!!!!!
chaukor chaand...jabardast...ye mera hat, ye mera safa, topi... (baal nahi de sakta, natural hain)..sab kurbaan

रिश्वतखोर बहुत हैं ये खला की सात परतें ...!

Hmm, wakai..

on a serious note...aisi surmai, jadui kothri ho to kaun chaand na utre bhala... :)

keep it up :)

M VERMA said...

खा जाती होंगी
तुझ तक पहुँचने से पहले ही
थोड़े अलफ़ाज़, थोड़ी शिकायतें,
और ढेर सारी मिन्नतें
जो रोज़ भेजती हूँ तुझे
धूप, अर्घ्य और नवैध के साथ...
यकीनन यही होता है और फिर 'A letter to God' याद हो आया.
कितना मासूम सा एहसास है. कितना कोमल
बहुत सुन्दर

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

मंगलवार २० जुलाई को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है आभार

http://charchamanch.blogspot.com/

वीना said...

जो रोज भेजती हूं तुझे
धूप,अर्ध्य और नवैध के साथ
खूबसूरत अभिव्यक्त...बधाई

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

katal katal katal...:)

Avinash Chandra said...

Ab jaa ke koi comment aaya hai..(main soch hi raha tha ab tak khoon-kharaba kyun nahi hua :) )

सम्वेदना के स्वर said...

देखा!स्वप्निल के आने के बाद मुशायरा खतम...मैं भी चला!!!

Deepali Sangwan said...

बहुत सुन्दर.

sanu shukla said...

bahut hi umda...!!

अनामिका की सदायें ...... said...

बहुत प्यारी उम्दा रचना.

VaRtIkA said...

@ mamma...thn k u sooo much..... aur haan सय्यारों= planet, mujhe likhnaa chahiye tha vahin...par bhool gaye... ab likh dete hain...

@ sonal and praveen ji... thanks a lot.... :)

@ samvednaa ke swar...hehe...are sir humne kisi ko beech mein khadaa nahin kiyaa bas vo to pehle se middleman bankar khadi thi...ab dheere dheere thodi corrupt bhi ho gayin hain to kyaa kiyaa jaaye...:) aur jaise aapne kaha kisi ne "katal katal katal" kehkar bevajah hi humein andar karwaane ki thaan li hai....... aur khud farar ho gaya hai.... vaise sach baat to yeh hai ki yeh uskaa orignal dialogue nahin...churaya hua hai...hehe :p

@ avinash....avi thank u so much...vaise aapne yeh tareef karne kaa crash course kahan se kiyaa...har baar itne acche se itni lambi choudi tareef kar lete hain...hehe... course mein to top pakka aapne hio kiyaa hogaa...kyun... :p :p :p par haan jaise pehle bhi keh chuke hain, aapke comment padhnaa humeshaa accha lagtaa hai phir chahe vo kisi ki bhi post pe kyun naa ho...

@ M.Verma... thnk u sir.... haan aapne sahi kaha ...a letter to god yaad ho aata hai...maine to nahin padhi yeh short story par ek dost bataa raha tha aaj poochne par... padhenge zaroor dhoond kar ....... :)

@ veena ji... thnx a lot....

@ swapnil.... mujhe jhel bhejne kaa praband kar rahe hain kyaa yun katal katal katal chillakar ...aur vo bhi yun yahan publicly...

@ avinash... aviiiiiiiiii...hai naa hai naa...:p

@ samvedna ke swar... :) :) :)

@ deep, sanu shukla ji, and anamika ji... thnk u sooo much... :)

नीरज गोस्वामी said...

अद्भुत शब्द चुने हैं आपने अपने भाव हम तक पहुँचाने में...बधाई स्वीकार करें...

नीरज

nilesh mathur said...

शानदार रचना है, कमाल के शब्द हैं, बेहतरीन भाव लिए एक खुबसूरत रचना!!

Grishma said...

Hi Vartika,
Though I do not write in hindi,but after reading your "Kavita" it feels really inspired :)

shradha said...

!!

आशीष/ ASHISH said...

Dear Vartika,
!!!!!!!!!!!!!!!
!!!!!!!!!!!!!!!
!!!!!!!!!!!!!!!
Ashish

Parul said...

vartika ji ..too gud..kya aap hi mere blog pe comments deti hai..

saanjh said...

pata hai...teen din se koshish kar rahi hoon yahan likhne ki, kambakht net connectivity ne pareshan kar rakkha hai ;)

shayad aapne suna ho thoda sa kuch mere baare mein...hopefully;)

rishwatkhor khala ki partein....! unique, totally unique. bohot acchi nazm hai. aur baaki sab bhi. really nice to read u :)

Ravi Shankar said...

जब वह
सब सय्यारों को टापता हुआ
मेरी खिड़की से कूद
मेरी कोठरी के फर्श पर उतरता है....


oye... ye to khatarnaak type ki nazm ho gayi, buddy ! Ek dum jabardast.... !

Ravi Rajbhar said...

very-2 good.
padhate waqt kuchh sabd samjhane me dikat hui
par niche sabhi comment padhane ke baad saaf ho gya.
aapki kalam se mai hamesa prabhawit huwa hun.. aapki rachna dil me sama jaati hai di.
aap u hi aage badhe aur apne banars ka naam roshan karen. kabhi samay mile to is chhote bhai ki rachnao ko bhi padha kijiye aur mujhe marg darshan diya kijiye.
Thanx
aapka bhai.
Ravi Rajbhar

सत्यम शिवम said...

बहुत अच्छा....मेरा ब्लागः"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com .........साथ ही मेरी कविता "हिन्दी साहित्य मंच" पर भी.......आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे...धन्यवाद

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

बहुत सुन्दर रचना ... चाँद लगा दिया आज आपने हमारी शाम में... वाह.. ब्लॉग पढ़ना जाया नहीं हुवा..