Monday, August 24, 2009

खुदाई

--------------------------------------------------------

मैंने तो
बस देना चाहा था,
उसे….......
प्रेम का अर्घ्य .........
बचपन का स्वर्ग.........
सपनों का घर .........
अंतस का स्वर.........
मिटटी का जुडाव.........
सानिध्य का आलाव
मुक्तक के छंद.........
रिश्तों के ... बंधन स्वच्छंद .........

और तुम…
तुम मुझे
यह सब दे सकने का
एक मौका भी न दे सके ….!

पर हाँ,
देते भी क्यूँ….?
खुदा जो ठहरे…!
किसे 'कब', 'कहाँ', 'किसके हाथों', और
'क्या' देना है …
यह तय करने का
तुम्हारा एकाधिकार
जो यदि बंट गया,
तो तुम्हारी 'खुदाई'
घट ना जायेगी….................. ???

8 comments:

केतन कनौजिया 'शाइर' said...

यह तय करने का
तुम्हारा एकाधिकार
जो यदि बंट गया,
तो तुम्हारी 'खुदाई'
घट ना जायेगी…


ye andar ka aakrosh hai ya kuch aur vartika.. baharhaal sundar rachna ..

VaRtIkA said...

dhnayawaad ketan ji...

in panktiyon mein aakrosh hi hai sir, aur kuch nahin....

गौरव said...

ये तंज़ है, शिकायत है, वितृष्णा है, ईर्ष्या है, या कुछ और..................क्या है.........
किसके लिए है............

कई सवाल उठे दिल में.........पूछूंगा नही...........

पर सोच जरूर रहा हूँ की इस बार कविता का स्रोत क्या है................?

Pankaj Upadhyay said...

Title padhkar soncha kis cheez ki khudai karwa rahi hain aap.. :) kavita padhi to aapki shiqayat ke baare mein pata chala...

shayad apne adhikaar diye honge tabhi 'khuda' unhe apne adhikaar samajh baithe..khyal rakhiye aur muskurati rahiye :)

हितेंद्र कुमार गुप्ता said...

Bahut Barhia... Isi Tarah Likhte rahiye.

http://hellomithilaa.blogspot.com
Mithilak Gap Maithili Me

http://mastgaane.blogspot.com
Manpasand Gaane

http://muskuraahat.blogspot.com
Aapke Bheje Photo

M VERMA said...

आज आपने जिस खूबसूरती से भावो को पिरोया है -- वाह!!
तो तुम्हारी 'खुदाई'
घट ना जायेगी….................. ???
यह तंज ज्यो ज्यो विस्तार पाता जायेगा रचना का दायरा भी बढता जायेगा.
बहुत अच्छा लगा आपको पढकर

संजय भास्कर said...

bahut hi sunder kavita



htttp://sanjaybhaskar.blogspot.com

Avinash Chandra said...

har kavita ki tarah...bahut satik

aakrosh ke tej swar...wo bhi wakai soch raha hoga